phone
Call us now9520890085

Dashmoolarisht

Rs. 80.00/-     Rs. 80.00

अश्वमूलारिष्ट एक आयुर्वेदिक टॉनिक या हर्बल सूत्रीकरण है जो पारंपरिक रूप से पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और श्वसन समस्याओं से राहत देने के लिए उपयोग किया जाता है। यह दस औषधीय जड़ी बूटियों के मिश्रण से बना है जो एक विशिष्ट अवधि के लिए पानी में किण्वित होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कई स्वास्थ्य लाभ के साथ एक शक्तिशाली टॉनिक होता है।

दशमूलारिष्ट में उपयोग की जाने वाली दस जड़ी-बूटियाँ हैं:

1. बिल्वा (एगल मार्मेलोस)
2. अग्निमंथा (प्रेमना इंटीग्रिफोलिया)
3. श्योनाका (ओरॉक्सिलम इंडिकम)
4. पाताल (स्टीरियोस्पर्मम सुएवोलेंस)
5. गंभरी (गमेलिना आर्बोरिया)
6. बृहती (सोलनम इंडिकम)
7. कंटकारी (सोलनम xanthocarpum)
8. गोक्षुरा (ट्रिबुलस टेरेस्ट्रिस)
9. शाल्पर्नी (डेसमोडियम गैंगेटिकम)
10. पृष्णपर्णी (उररिया चित्र)

दशमूलारिष्ट आमतौर पर प्रसवोत्तर वसूली में मदद करने के लिए प्रसव के बाद महिलाओं के लिए सिफारिश की जाती है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि यह गर्भाशय को मजबूत करता है, स्तनपान में सुधार करता है, और थकान और कमजोरी से राहत प्रदान करता है। इसका उपयोग समग्र जीवन शक्ति और ऊर्जा के स्तर को बेहतर बनाने में मदद के लिए भी किया जाता है।

घटक:-  दशमूल, चित्रक्मूल, पुष्करमूल, लोध्र, गिलोय, आंवला, विजयसारछाल, हरड, कूठ, मजीठ, देवदारु, वायविडंग, मुलेठी, भारंगी, बहेड़ा, चव्य, जटामासी, अनन्तमूल, कालाजीरा, निशोथ, पीपल, कचूर, हल्दी,विदारीकन्द, अश्वगंध, बराहीकंद, धय्पुष्प, जयेफल, लोंग, इलायची, नागकेशर, तेजपत्र, दालचीनी आदि

रोगाधिकार :- मन्दाग्नि, वातव्याधि, कास, श्वांस, प्रसूति रोग में लाभप्रद

 सेवन विधि :- १०-२० मिली. सुबह शाम भोजन के बाद समभाग जल मिलकर चिकित्सक के परामर्शानुसार

Dashmularishta is an ayurvedic tonic or herbal formulation that is traditionally used to help improve digestive health, boost immunity, and provide relief from respiratory problems. It is made from a blend of ten medicinal herbs that are fermented in water for a specific period of time, which results in a potent tonic with multiple health benefits.

The ten herbs used in Dashmularishta are:

1. Bilva (Aegle marmelos)
2. Agnimantha (Premna integrifolia)
3. Shyonaka (Oroxylum indicum)
4. Patala (Stereospermum suaveolens)
5. Gambhari (Gmelina arborea)
6. Brihati (Solanum indicum)
7. Kantakari (Solanum xanthocarpum)
8. Gokshura (Tribulus terrestris)
9. Shalparni (Desmodium gangeticum)
10. Prishnaparni (Uraria picta)

Dashmularishta is commonly recommended for women after childbirth to help with postpartum recovery, as it is believed to strengthen the uterus, improve lactation, and provide relief from fatigue and weakness. It is also used to help improve overall vitality and energy levels.

Components:- Dashmool, Chitrakmool, Pushkarmool, Lodhra, Giloy, Amla, Vijaysarchhal, Harad, Kooth, Majith, Devdaru, Vayvidang, Mulethi, Bharangi, Baheda, Chavya, Jatamasi, Anantmool, Kalajira, Nishoth, Peepal, Kachur, Turmeric, Vidarikand , Ashwagandha, Barahikand, Dhaypushpa, Nutmeg, Clove, Cardamom, Nagkeshar, Tejpatra, Cinnamon etc.

Remedy: - Beneficial in dyspepsia, rheumatic fever, cough, breathing, obstetric disease

Consumption method :- 10-20 ml. Morning and evening after meals, mixed with water, as per the doctor's advice.

225 ml