phone
Call us now9520890085

Kabjhar Churn

Rs. 70.00/-     Rs. 70.00

कब्ज़हर चूर्ण एक आयुर्वेदिक सूत्रीकरण है जिसका उपयोग कब्ज के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें आमतौर पर सनाय के पत्ते, त्रिफला, हरीतकी, लीकोरिस और अन्य जड़ी-बूटियों जैसे प्राकृतिक अवयवों का संयोजन होता है। इन सामग्रियों को उनके रेचक गुणों के लिए जाना जाता है और मल त्याग को प्रोत्साहित करने और कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकता है।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कब्ज चूर्ण का उपयोग एक योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए। अनुशंसित खुराक का पालन करना और निर्धारित मात्रा से अधिक नहीं होना भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि अति प्रयोग से दस्त और निर्जलीकरण हो सकता है।

कब्ज के अंतर्निहित कारणों को दूर करना भी महत्वपूर्ण है, जैसे आहार में फाइबर की कमी, निर्जलीकरण, या गतिहीन जीवन शैली। जीवनशैली में बदलाव करना जैसे कि पानी और फाइबर का सेवन बढ़ाना, नियमित रूप से व्यायाम करना और तनाव का प्रबंधन करना और समग्र पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देना हो सकता है।

घटक        :- सनायपत्र, सोंफ, सोंठ, छोटीहरड, सेंधानमक

रोगाधिकार :- यह चूर्ण पाचक,विरेचक,कृमिनाशक व वातहर में लाभकारी

सेवन विधि :- ३-५ ग्राम रात को सोते समय गर्म दूध या जल के साथ

Kabzhar churna is an Ayurvedic formulation that is used to treat constipation. It typically contains a combination of natural ingredients such as Senna leaves, Triphala, Haritaki, Licorice, and other herbs. These ingredients are known for their laxative properties and can help to stimulate bowel movement and relieve constipation.

However, it is important to note that constipation churna should be used under the guidance of a qualified Ayurvedic practitioner. It is also important to follow the recommended dosage and not exceed the prescribed amount, as overuse can lead to diarrhea and dehydration.

It is also important to address the underlying causes of constipation, such as a lack of fiber in the diet, dehydration, or a sedentary lifestyle. Making lifestyle changes such as increasing water and fiber intake, exercising regularly, and managing stress can be and promote overall digestive health.

Ingredients :- Cow Urine Ghan, Ghrit Kumari, Small Harad, Baheda Amla Black Pepper Peepal Extract Flower Tulsi.

Diseases :- Liver disorders, bloody piles, chronic constipation, not clearing the stomach, cough, breath, stomach worms, honey is helpful in menstruation.
Method of intake: - Consume 2-2 tablets twice a day with plain water and give half of this quantity to the children.

50gm