phone
Call us now9520890085

BILWADI CHURNA

Rs. 75.00/-     Rs. 75.00

Bilwadi churna, also known as Bilwadi Churna or Vilwadi Churna, is an Ayurvedic herbal powder formulation. It is primarily used in Ayurveda, the traditional medicine system of India, for the treatment of digestive disorders. The term "churna" refers to a powdered form of herbs and spices.

The main ingredient is Bilwadi churna is Bilva or Bael (Aegle marmelos), a medicinal tree found in India. The powder is made by grinding and mixing various herbs and spices, which may vary slightly depending on the specific preparation and the Ayurvedic practitioner or manufacturer.

The formulation of Bilwadi churna typically includes ingredients like Bilva (Aegle marmelos), Dhania (Coriander seeds), Shunthi (Ginger), Maricha (Black pepper), Pippali (Long pepper), and others. These ingredients are known for their digestive properties and are believed to help improve digestion, reduce indigestion, and alleviate symptoms such as bloating, flatulence, and abdominal discomfort.

Bilwadi churna is commonly used in Ayurvedic practice for treating conditions like gastritis, indigestion, irritable bowel syndrome (IBS), diarrhea, and other digestive ailments. It is usually taken orally, either alone or with honey, warm water, or as directed by an Ayurvedic practitioner.

As with any herbal medicine, it's important to consult with a qualified Ayurvedic practitioner or healthcare professional before using Bilwadi churna. They can provide guidance on the appropriate dosage, duration, and any potential contraindications or side effects based on your specific health condition and medical history.

 

बिलवादी चूर्ण,जिसे बिलवाड़ी चूर्ण या विल्वाड़ी चूर्ण के नाम से भी जाना जाता है,एक आयुर्वेदिक हर्बल चूर्ण है। यह मुख्य रूप से पाचन विकारों के इलाज के लिए भारत की पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेद में प्रयोग किया जाता है। "चूर्ण" शब्द जड़ी-बूटियों और मसालों के चूर्ण के रूप को संदर्भित करता है। बिलवादी चूर्ण का मुख्य घटक बिल्व या बेल (एगल मार्मेलोस) है,जो भारत में पाया जाने वाला एक औषधीय पेड़ है। पाउडर विभिन्न जड़ी-बूटियों और मसालों को पीसकर और मिलाकर बनाया जाता है, जो विशिष्ट तैयारी और आयुर्वेदिक चिकित्सक या निर्माता के आधार पर थोड़ा भिन्न हो सकता है। बिलवादी चूर्ण के निर्माण में आमतौर पर बिल्व (एग्ले मार्मेलोस),धनिया (धनिया के बीज),शुंथि (अदरक),मारीच (काली मिर्च),पिप्पली (लंबी काली मिर्च) और अन्य सामग्री शामिल होती है। इन अवयवों को उनके पाचन गुणों के लिए जाना जाता है और माना जाता है कि वे पाचन में सुधार,अपच को कम करने और सूजन,पेट फूलना और पेट की परेशानी जैसे लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।

बिलवादी चूर्ण का उपयोग आमतौर पर गैस्ट्राइटिस,अपच,चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस),दस्त और अन्य पाचन रोगों जैसी स्थितियों के इलाज के लिए आयुर्वेदिक अभ्यास में किया जाता है। यह आमतौर पर मौखिक रूप से या तो अकेले या शहद,गर्म पानी के साथ या आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा निर्देशित के रूप में लिया जाता है।

किसी भी हर्बल दवा की तरह,बिलवादी चूर्ण का उपयोग करने से पहले एक योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक या स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। वे आपकी विशिष्ट स्वास्थ्य स्थिति और चिकित्सा इतिहास के आधार पर उचित खुराक,अवधि,और किसी भी संभावित मतभेद या दुष्प्रभाव पर मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं।

100gm