phone
Call us now9520890085

Haridrakhand

Rs. 70.00/-     Rs. 70.00

हरिद्राखंड हल्दी (हरिद्रा) और अन्य सामग्री जैसे गुड़, घी, काली मिर्च, दालचीनी और इलायची से बनी एक आयुर्वेदिक औषधि है। यह मुख्य रूप से मुँहासे, एक्जिमा और सोरायसिस जैसे त्वचा रोगों के साथ-साथ अपच और सूजन जैसी पाचन समस्याओं के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

हरिद्राखंड में सक्रिय संघटक हल्दी है, जिसमें सूजन-रोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। ऐसा माना जाता है कि हरिद्रखंड में अन्य सामग्रियों के साथ हल्दी का संयोजन इसके औषधीय गुणों को बढ़ाता है और इसे विभिन्न बीमारियों के इलाज में अधिक प्रभावी बनाता है।

हरिद्राखंड पाउडर या पेस्ट के रूप में उपलब्ध है, जिसे दूध या पानी में मिलाकर मौखिक रूप से लिया जा सकता है। अनुशंसित खुराक व्यक्ति की उम्र, वजन और स्वास्थ्य की स्थिति के आधार पर भिन्न होती है।

जैसा कि किसी भी दवा के साथ होता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह आपकी व्यक्तिगत जरूरतों के लिए सुरक्षित और उचित है, हरिद्रखंड लेने से पहले एक योग्य स्वास्थ्य चिकित्सक से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

घटक    :- हल्दी, निशोत, हरड, दारुहल्दी, नागरमोथा, अजवायन, अजमोद, चित्रक, कुटकी, जीरा, पीपल, सोंठ, दालचीनी, इलायची, तेज पात, वायविडंग, गिलोय, अडूसा, कूठ, बहेड़ा आंवला, चव्य,धनिया, लौह भस्म, अभ्रक भस्म, घी आदि

रोगाधिकार:- शीतपित्त, उदर्द, खुजली, जीर्णज्वर, पाण्डुरोग,इत्यादि नष्ट हो जाते है  

सेवन विधि:- ५-१० ग्राम जल के साथ

 

Haridrakhand is an ayurvedic medicine made from turmeric (haridra) and other ingredients such as jaggery, ghee, black pepper, cinnamon, and cardamom. It is primarily used to treat skin diseases such as acne, eczema, and psoriasis, as well as digestive problems such as indigestion and bloating.

The active ingredient in Haridrakhand is turmeric, which has anti-inflammatory and antioxidant properties. It is believed that the combination of turmeric with other ingredients in Haridrakhand enhances its medicinal properties and makes it more effective in treating various ailments.

Haridrakhand is available in the form of a powder or a paste, which can be mixed with milk or water and taken orally. The recommended dosage varies depending on the age, weight, and health condition of the person.

As with any medication, it is important to consult a qualified healthcare practitioner before taking Haridrakhand to ensure that it is safe and appropriate for your individual needs.

Components :- Turmeric, Nishot, Harad, Daruhaldi, Nagarmotha, Oregano, Parsley, Chitrak, Kutki, Cumin, Peepal, Dry ginger, Cinnamon, Cardamom, Bay leaf, Vayvidang, Giloy, Adusa, Kooth, Baheda Amla, Chavya, Coriander, Iron ash, mica ash, ghee etc.

Remedy:- Cholelithiasis, dyspepsia, itching, chronic fever, panduroga, etc. are destroyed.

Dosage:- 5-10 grams with water

50gm